Join WhatsApp GroupJoin Now
Join Telegram GroupJoin Now

Sanskrit Pedagogy Online Test Quiz 2

Sanskrit Pedagogy Online Test Quiz 2 ( संस्कृत शिक्षण विधियाँ ) : दोस्तो आज इस पोस्ट मे रीट संस्कृत शिक्षण विधि के महत्त्वपूर्ण वस्तुनिष्ठ प्रश्नो का अध्ययन करेंगे । यह पोस्ट REET 2021, RPSC, RBSE REET, School Lecturer, Sr. Teacher, TGT PGT Teacher, 3rd Grade Teacher, CTET, UPTET आदि परीक्षाओ के लिए महत्त्वपूर्ण है । अगर पोस्ट पसंद आए तो अपने दोस्तो के साथ शेयर जरूर करे ।

संस्कृत शिक्षण विधियाँ (Sanskrit Shikshan Vidhi Online TEST Quiz 2 ) : यह Quiz आपके संस्कृत शिक्षण विधियाँ भाग को बेहतर बनाता है। यदि आप रोजाना हमारे प्रश्नोत्तरी ( Daily Quiz ) का प्रयास करते हैं, तो आपको अपने ज्ञान में सुधार मिलेगा। इसलिए रोजाना सभी विषय के Quiz का प्रयास करें। प्रत्येक प्रश्न एक अंक का होता है।

Total Questions – 10

Total Marks -10

Time – प्रत्येक प्रश्न के लिए 30 सेकंड निर्धारित

[1] भाषा शिक्षण की निर्बाध विधिहै

(1)  प्रत्यक्ष विधि

(2) व्याकरण अनुवाद विधि

(3) अभिक्रमित अनुदेशन

(4) द्विभाषी पद्धति

प्रत्यक्ष विधि

[2] वेल्स देशीय विद्वान सी. जे. डोडसनमहोदय द्वारा प्रतिपादित शिक्षण विधि है

(1) प्रत्यक्ष विधि

(2) व्याकरण अनुवाद विधि

(3) द्विभाषी पद्धति

(4) अभिक्रमित अनुदेशन पद्धति

द्विभाषी पद्धति

[3] प्रत्यक्ष विधि में जिन आधारभूत कौशल लोगों को सीखने का पर्याप्त अवसर मिलता है, वह है

(1) सुनना और बोलना

(2) सुनना और लिखना

(3) पढ़ना और लिखना

(4) बोलना और लिखना

सुनना और बोलना

[4] किस विधि में शिक्षा का आरंभ उपनयन संस्कार के साथ होता है

(1) दल शिक्षण विधि

(2) दूरस्थ शिक्षण पद्धति

(3) पाठशाला पद्धति

(4) अभिक्रमित अनुदेशन पद्धति

पाठशाला पद्धति

[5] भारत में भाषा प्रयोगशाला का निर्माण सर्वप्रथम दिल्ली विश्वविद्यालय में हुआ था, कब

(1) 1953 ई.

(2) 1963 ई.

(3)  1973 ई.

(4) 1983 ई.

1973 ई.

[6] ‘ स्कूल में भाषापुस्तक के लेखक हैं

(1)  ल्यूइस

(2) बेकन

(3) जुड

(4) युंग

ल्यूइस

[7] “द्विभाषी पद्धतिके प्रवर्तक है

(1) स्किनर

(2) एल. प्रेसी

(3) बी.पी. बॉकिल

(4)  सी. जे. डोडसन

सी. जे. डोडसन

[8] द्विभाषा पद्धति में

(1)  मातृभाषा का तनिक भी प्रयोग नहीं किया जाता है

(2)  मातृभाषा का बहुत अधिक प्रयोग किया जाता है

(3)  कठिन शब्दों का अर्थ बताने के लिए मातृभाषा प्रयुक्त होती है

(4)  अभ्यास के लिए मातृभाषा प्रयुक्त होती है

कठिन शब्दों का अर्थ बताने के लिए मातृभाषा प्रयुक्त होती है

[9] ‘ध्वन्यात्मक विधिका संबंध है

(1)  रचना शिक्षण से

(2)  वाचन शिक्षण से

(3)  लेखन शिक्षण से

(4)  कविता शिक्षण से

वाचन शिक्षण से

[10] निम्न में से व्याकरण शिक्षण का उद्देश्य नहीं है

(1)  बालकों को भाषा के नियमों का ज्ञान करवाना

(2)  बालकों को भाषायी तत्वों का ज्ञान करवाना

(3)  बालकों को भाषा की प्रकृति की पहचान करना सिखाना

(4)  बालकों को रस एवं भाव का यथार्थ ज्ञान करवाना

बालकों को रस एवं भाव का यथार्थ ज्ञान करवाना
All Important Quiz Click Here
Rajasthan GK Quiz Click Here
Study Material PDF Click Here
Geography Notes PDF Click Here
History Notes PDF Click Here
Rajasthan GK Notes PDF Click Here
Hindi Grammar Notes PDF Click Here
Sanskrit Grammar Notes PDF Click Here
Psychology / Pedagogy Notes PDF Click Here
Computer Notes PDF Click Here
Join Telegram Channel Click Here
Follow FB Page Click Here
Sanskrit Pedagogy Online Test Quiz 2, संस्कृत शिक्षण विधियाँ, Sanskrit Shikshan Vidhi Online TEST, Sanskrit Pedagogy Question, Sanskrit Teaching Method

Leave a Comment

error: Content is protected !!